कैसे करे पढाई के तनाव को दूर ? How to Remove study Stress In Hindi ?

पढाई में आपकी चाहे कितनी भी दिलचस्पी हो या पढने का जूनून हो परन्तु परीक्षा के वक्त अधिकांश छात्र तनाव (Stress) की स्थिति में आ ही जाते है. परीक्षा का थोड़ा बहुत तनाव तो Student को पढने के लिए प्रेरित करता है लेकिन इस तनाव की अधिकता आपके लिए नुकसानदायक हो सकती है
 
परीक्षा के दौरान होने वाले तनाव को दूर कैसे करे ? Exam Ke Tension KO Kaise Kare Door
 
परीक्षा के दौरान तनाव
 
परीक्षा के दिनों में तनाव होना लाजमी है। आखिर इसका संबंध आपके भविष्‍य से जो होता है। यह तनाव अगर सकारात्‍मक हो तो अच्‍छा होता है, वहीं अगर कहीं यह नकारात्‍मक हो जाए तो सारे किये कराये पर पानी भी फेर सकता है। कई बच्‍चों को परीक्षा के नाम से ही बुखार हो जाता है। ऐसे में तनाव कम करने के गुर सीखना बहुत जरूरी होता है। अधिक तनाव एकाग्रता को नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे फायदा हो न हो, लेकिन नुकसान बहुत हो सकता है। इस स्‍लाइड शो के माध्‍यम से जानिए वे उपाय जो परीक्षा के दौरान बच्‍चों के तनाव को कम करेगें और उनका ध्‍यान पढ़ाई में एकाग्रता से लगेगा।
संतुलित आहार
 
परीक्षा के दिनों में बच्‍चों को ज्‍यादा मेहनत करनी पड़ती है इसलिये उन्‍हें स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक आहार का सेवन करना चाहिए। इसके साथ ही पर्याप्‍त मात्रा में पानी भी जरूर पीना चाहिए इससे दिमाग तर रहता है। ताजा, हल्‍का और घर का बना खाना बच्‍चों का एनर्जी लेवल और एकाग्रता बढ़ाता है। इस तरह का आहार न केवल बच्‍चों को स्‍वस्‍थ रखता हैं बल्कि तनाव भी कम करता है।
 
मालिश
 
मालिश नींद और तनाव से लड़ने का शानदार तरीका है। पढ़ाई के बीच में सिर और गर्दन की म‍ालिश करने से शरीर का रक्त संचार बढ़ता है और तनाव का स्‍तर कम होता है। हथेलियों और पैर के तलवों की मालिश से भी तनाव कम होता है।
पर्याप्‍त आराम करें
 
परीक्षा के दिनों में लगातार पढ़ना और देर रात तक जागना शारीरिक व मानसिक रूप से नुकसानदेह हो सकता है। इसलिए शरीर और मस्तिष्‍क को आराम देने के लिए पूरी नींद लें। पर्याप्‍त आराम करने से स्मृति और एकाग्रता सही रहती है।
 
बॉडी स्ट्रेच करें
 
एक ही अवस्‍था में देर तक बैठकर पढ़ने से नुकसान हो सकता है इसलिए पढ़ाई के बीच में ब्रेक लेकर बॉडी को स्‍ट्रेच करें। इस साधारण से स्ट्रेच से मसल्‍स का तनाव कम होता है और पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करने में चमत्कारिक सुधार होता है।
ब्रेक तो जरूरी है यार
 
परीक्षा के दौरान घंटों लगातार बैठकर पढ़ने से तनाव बढ़ता है। इसलिए जरूरी है कि बीच-बीच में छोटे-छोटे ब्रेक लेते रहें। इससे आप तरोताजा तो रहेगें ही साथ ही रिविजन भी अच्‍छा होगा।
योजनाबद्ध तरीके से पढ़ाई
 
परीक्षा के दौरान तनाव को कम करने और सफलता के लिए जरूरी है कि पढ़ाई योजनाबद्ध तरीके से की जाए। विषयों और समय को सही तरीके से बांटकर नियमित अध्‍ययन करना, लाभदायक होता है।
मनोबल बढ़ाएं
 
परीक्षा के दौरान बच्‍चों को अपने माता-पिता की सपोर्ट की सबसे ज्‍यादा जरूरत होती है। ऐसे में माता-पिता को चाहिए कि वह अपने बच्‍चों का मनोबल बढ़ाएं। ऐसा करने उनका तनाव तो कम होगा ही साथ ही आत्‍मविश्‍वास भी बढ़ेगा।
समय महत्वपूर्ण नहीं
 
परीक्षा के दौरान दिन-रात पढ़ते रहना जरूरी नहीं है। पढ़ाई के दौरान घंटे उतने महत्वपूर्ण नहीं है जितने की एकाग्रता। इसलिए जितना जरूरी है उतना पढ़ें, नियमित पढ़ें और जितना भी पढ़ें ईमानदारी से पढ़ें।
प्राणायाम करें
 
प्राणायाम करने से परीक्षा के तनाव को कम किया जा सकता है। इसलिए ऐसा प्राणायाम करें जिसमें नाक से सांस लेना और छोड़ना शामिल हो। इसमें धीमी, गहरी सांस लेने से रक्तचाप कम करने में भी मदद मिलती है। ब्रेक के दौरान आप कभी भी इसे कर सकते हैं।
 
टाइमटेबल का पालन
 
परीक्षा के दौरान टाइमटेबल तो अकसर सभी बनाते है, ल‍ेकिन बहुत कम बच्चे ही उसका पालन कर पाते हैं। टाइमटेबल पर अमल करने से पढ़ने और आराम करने का समय तय होता है जिससे तनाव को कम करने के लिए मदद मिलती है।
 एग्जाम के लिए ठीक तरह से तैयार न होना-
कई छात्र पूरे सालभर मौज मस्ती करते है और जब परीक्षा की घडी आती है उस समय बहुत परेशान हो जाते है. वे परीक्षा के दिनों से कुछ समय पूर्व पढ़ना आरम्भ करते है जिससे उनको अपनी पढाई एक चट्टान नजर आती है. पढाई करने का दबाव उनको मानसिक तौर पर बीमार बनाने लगता है
जो छात्र पूरे सालभर थोड़ा थोड़ा भी पढता है वह परिक्षा के समय चिंता से मुक्त रहता है वही उन छात्रो को इस समय बहुत कठिनाई होती है जिन्होंने पूरे साल कुछ भी पढ़ा नहीं होता. इसलिए Exam के लिए पूरी तरह Prepare न होना Students में तनाव का Reason होता है
परीक्षा के बाद ज़िन्दगी में आने वाला बदलाव-
पूरे साल आप पढाई करते है और फिर आपको अपना पूरे साल का Report Card देना होता है जो की Exam के रूप में आपके सामने आता है. जब परीक्षा पूरी हो जाती है तो आपको Free Time मिलता है
इस समय उन स्टूडेंट्स को कुछ भी Problem नहीं होती जिन्होने पूरे आत्मविश्वास और लगन से परीक्षा दी होती है लेकिन जिस छात्र ने अच्छी तरह से पढ़कर और पूरी लगन से एग्जाम नहीं दिए होते है या जिसको अच्छा रिजल्ट आने का कॉन्फिडेंस नहीं होता वे छात्र इस समय बहुत परेशान रहते है और वे Stress की चपेट में आते है
 
सकारात्मक सोच रखे :
परीक्षा के समय पर सकारात्मक सोच रखना बहुत ही आवश्यक होता है. अगर हम अच्छा सोचते है तो अच्छा होता है और वही बुरा सोचते है तो बुरा होता है. इसलिए पॉजिटिव सोच रखना बहुत जरुरी है. यह आपको Negative Thoughts से तो बचाएगा ही साथ ही साथ आपको पढाई के तनाव से भी दूर रखेगा.
दोस्तों आप परीक्षाओ की ठीक से तैयारी करे, अगर एग्जाम की तैयारी आपने ठीक ढंग से की होगी तो अच्छे Marks आ ही जायेंगे. आपके लिए कुछ भी काम असंभव नहीं है, अगर आप उसे पूरे मन व लगन से करते है. दोस्तों आप यहाँ बताये गये टिप्स को पूरी दृढ़ता के साथ जरुर फॉलो करे यह आपको exam stress से दूर रखेंगे. किन्तु यह याद रखे की केवल योजना बनाने से ही बात नहीं बनती बल्कि उसके क्रियान्वन को लेकर दृढ प्रतिज्ञ रहे.

Leave a Comment